Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways
View Content in Hindi
National Emblem of India

About Us

Department

Products

News & Recruitment

Vendor Information

Tender Information

Contact Us



SMS Inquiry


Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

 

 

चिरेका राजभाषा कार्यान्वयन समिति की दिनांक 24.06.2020 को आयोजित 140वीं बैठक का कार्यवृत्त

 

महाप्रबंधक/चिरेका की अध्यक्षता में चिरेका राजभाषा कार्यान्वयन समिति की 140वीं बैठक दिनांक 24.06.2020 को 12.00 बजे प्रशासन भवन सभाकक्ष में आयोजित की गई। कोरोना महामारी के कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बैठक में महाप्रबंधक महोदय के अलावा केवल प्रधान विभागाध्यक्षों ने ही भाग लिया। शेष अधिकारियों ने विडियो कॉनफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में भाग लिया। राजभाषा अधिकारी डॉ. मधुसूदन दत्त ने समिति के अध्यक्ष एवं सदस्यों का स्वागत किया और कार्यवाही प्रारंभ की।

उक्त बैठक के प्रारंभ में महाप्रबंधक महोदय ने पिछली तिमाही के दौरान हिंदी में प्रशंसनीय काम करने वाले पाँच कर्मचारियों को नक़द पुरस्कार एवं प्रमाण-पत्र प्रदान किया। तत्पश्चात् महाप्रबंधक महोदय ने प्रशासन भवन में स्थित हिन्दी पुस्तकालय को परिवर्तित कर बनाए गए सामान्य पुस्तकालय का ई-शुभारंभ किया।

 

140.1   मुराधि का संबोधन

                               

मुख्य राजभाषा अधिकारी एवं प्रधान वित्त सलाहकार श्री रविज सेठ ने बैठक को संबोधित करते हुए कहाकि कोरोना के कारण हुए लॉक-डाउन के फलस्वरूप अन्य कार्यों के साथ-साथ राजभाषा के कार्यों में भी बाधा आई है। लेकिन हम सब फिर से एक बार अपने कार्यक्षेत्र में सक्रिय हो रहे हैं।  उन्होंने राजभाषा हिन्दी को एकता के सूत्र में जोड़ने वाली भाषा बताते हुए सभी को एक बार फिर से एकजुट होकर इसके प्रयोग प्रसार को बढ़ाने पर बल दिया। अंत में उन्होंने सभी अधिकारियों से आग्रह किया कि वे अपने अधीनस्थ कर्मचारियों का उत्साहवर्धन करते रहें ताकि चिरेका  में राजभाषा का प्रवाहदोबारानिरंतर गति से आगे बढ़ता रहे।

 

140.2  निर्धारित प्रयोजनों में हिंदी-अंग्रेजी का प्रयोग

140.2.1  धारा 3(3) का अनुपालन

 

दिसम्बर,2019 एवं मार्च’2020 की तिमाही के दौरान क्रमशः 1800 एवं 1502 प्रलेख द्विभाषी में जारी किए गए । निष्पादन प्रतिशत 100% रहा है । राधि ने कहा कि आगे भी द्विभाषी दस्तावेजों के निष्पादन का यहप्रतिशत बनाए रखा जाए ।          (कार्रवाई – संबंधित विभागाध्यक्ष/ नामित अधिकारी)

 

140.2.2  हिंदी  में प्राप्त पत्रों के उत्तर हिंदी में

 

दिसम्बर,19 तिमाही में कुल 151 पत्र हिंदी में प्राप्त हुएजिनमें 79 पत्रों का हिंदी में उत्तर दिया गया। शेष 72 पत्रों के उत्तर अपेक्षित नहीं थे।इसी प्रकार मार्च,20 तिमाही में कुल 248 पत्र हिंदी में प्राप्त हुए जिनमें से 90पत्रों का हिंदी में उत्तर दिया गया। शेष 158 पत्रों के उत्तर अपेक्षित नहीं थे। राधि ने कहा कि हिंदी में प्राप्त पत्रों का हिंदी में उत्तर देने का शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त है। आशा है इस लक्ष्य को बनाए रखने काप्रयास आगे भी जारी रहेगा ।                 (कार्रवाई – संबंधित विभागाध्यक्ष /नामित अधिकारी)

                

140.2.3  मूल पत्राचार

 

चिरेका "ग" क्षेत्र के अन्तर्गत आता है। हिंदी में मूल पत्राचार का लक्ष्य 55% है। राधि ने कहा कि मार्च में समाप्त तिमाही में हमने लक्ष्य से कुछ अधिक पत्राचार किया है, फिर भी सभीसे अनुरोध किया जाता है कि इस मद में और अधिक सुधार करने का यथासंभव प्रयास किया जाए।

                                    (कार्रवाई –संबंधित विभागाध्यक्ष /नामित अधिकारी)

140.3रजिस्टरों/डायरियों के शीर्ष / फाइल कवरों पर विषय आदि

 

चिरेका के विभागों में प्रयुक्त रजिस्टरों/डायरियों के शीर्ष /फाइल कवरों पर विषय आदि शत-प्रतिशत द्विभाषी में हैं । राधि ने कहा कि जब भी कोई नई फाइल खोली जाए तो उस पर विषय आदि प्रारंभ में ही द्विभाषी रूप में लिख दिया जाए।(कार्रवाई – संबंधित विभागाध्यक्ष/नामित अधिकारी)

 

140.4    रबड़ की मोहरें/धातु सीलें/नामपट्ट/सूचना बोर्ड तथा दीवारों/फर्नीचरों/उपकरणों आदि पर द्विभाषी अंकन

 

चिरेका के सभी विभागों में प्रयुक्त रबड़ की मोहरें/धातु सीलें द्विभाषी हैं। नाम पट्ट/सूचना बोर्ड  त्रिभाषी हैं तथा दीवारों/ फर्नीचर/उपकरणों आदि पर द्विभाषी अंकित हैं।                                                   

 

140.5 हिंदी में प्रशिक्षण

वर्तमान सत्र जनवरी-जून, 2020में कुल 75 ( प्रवीण-54, प्राज्ञ-20 एवं पारंगत-01 ) कर्मचारी प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे थे। लॉक डाउन की वजह से मई माह में आयोजित होने वाली परीक्षा स्थगित की गई है जिसके कारण वर्तमान सत्र में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे कर्मचारी परीक्षा नहीं दे पाए हैं।  मुख्य राजभाषा अधिकारी ने हिन्दी टंकण और हिन्दी आशुलिपि में प्रशिक्षण प्राप्त कर्मचारियों से अधिक से अधिक काम हिन्दी में लेने पर बल दिया।        

                                                              (कार्रवाई – संबंधित विभागाध्यक्ष/राधि/ नामित अधिकारी)            

140.6   छुट्टी/पास/पीटीओ/अग्रिम आदि के आवेदन हिंदी में प्रस्तुत करना.

 

राधि ने कहा कि छुट्टी/पास/पीटीओ/अग्रिम आदि के आवेदन हिंदी में प्रस्तुतकरने के लिए कर्मचारियों को प्रेरित किया जाता है। कारखाना कार्यालय, भंडार कार्यालय एवं महाप्रबंधक कार्य़ालय में ड्यूटी पास हिंदी में जारी किए जाते हैं। कार्मिक विभाग को निदेश दिया गया है कि चिरेका में जारी किए जाने वाले कार्ड आवश्यक रूप से हिन्दी में या द्विभाषी रूप में जारी किए जाएं।

                                                (कार्रवाई –प्रमुकाधि, उप मुकाधि/कारखाना, संपर्क अधिकारी)

140.7   वेबसाइट

 

राजभाषा विभाग द्वारा विभिन्न विभागों से प्राप्त वेबसाइट संबंधी विषयों का हिंदी में अनुवाद किया जाता है । राधि ने कहा कि सभी विभाग अपने विभाग की वेबसाइट के द्विभाषीकरण हेतु आवश्यक कार्रवाई करें । अगर किसी विभाग की वेबसाइट सिर्फ अंग्रेजी में है तो उसके अनुवाद हेतु राजभाषा विभाग से सहायता ली जाए।

                     (कार्रवाई – संबंधित विभागाध्यक्ष/संपर्क अधिकारी)

140.8 पुस्तकालय

 

चिरेका मेंकुल 14 हिंदी पुस्तकालय अवस्थित हैं। वर्ष 2019-20 के लिए नई पुस्तकों की खरीद हेतु प्रक्रिया जारी है। महाप्रबंधक महोदय के निदेशानुसार प्रशासन भवन में स्थित हिन्दी पुस्तकालय को सामान्य पुस्तकालय के रूप में परिवर्तित किया गया है। इसमें हिन्दी के अलावा, बंगला एवं अंग्रेजी पुस्तकें भी उपलब्ध कराई गई हैं। इस पुस्तकालय को 11.30 मिनट से 18.30 बजे तक खोला जा रहा है ताकि चिरेका में कार्यरत विभिन्न भाषा-भाषी कर्मचारी तथा उनके परिवार के सदस्य इसका लाभ उठा सकें। साथ ही राधि ने सभी अधिकारियों से अपने-अपने विभाग में स्थित पुस्तकालयों पर अधिक ध्यान देने पर बल दिया।                                   

( कार्रवाईः उप महाप्रबंधक )

 

140.9  भर्ती/विभागीय परीक्षाओं में हिंदी का वैकल्पिक माध्यम

 

रेलवे बोर्ड के अनुसार विभागीय परीक्षाओं में पूर्णांक का 10% प्रश्न राजभाषा संबंधी होना चाहिए।साथ ही भर्ती विभागीय परीक्षाओं में हिंदी के वैकल्पिक माध्यम की सुविधा अवश्य होनी चाहिए। महाप्रबंधक महोदय के आदेशानुसार राजभाषा से संबंधित प्रश्नों का एक प्रश्न बैंक बनाकर सभी अधिकारियों को उपलब्ध करवा दिया गया है।

                                                                                    (कार्रवाई –सभी संपर्क अधिकारी)

 

 

140.10  प्रोत्साहन  योजनाएं

 

राधि ने चिरेका में लागू प्रोत्साहन योजनाओं का सभी को लाभ उठाने पर बल दिया। महाप्रबंधक महोदय के आदेशानुसार प्रोत्साहन योजनाओं से संबंधित जानकारी फिर से सभी अधिकारियों को उपलब्ध करवाई गई है।

                                                                                              (कार्रवाई –सभी संपर्क अधिकारी)

 

140.12  महाप्रबंधक का संबोधन

 

महाप्रबंधक महोदय ने अपने संबोधन भाषण में राजभाषा हिन्दी का व्यापक प्रयोग प्रसार करने पर बल देते हुए कहा कि सराकर की कल्याणकारी योजनाएं तभी प्रभावी बन सकती है जब उनकी जानकारी आम जन तक उनकी भाषा में पहुँचे और यह भाषा हिन्दी ही है। इसलिए हम सबका यह नैतिक दायित्व है कि राजभाषा की गरिमा को बनाए रखते हुए हम सब अपना योगदान निरंतर बनाए रखें। उन्होंने सरकारी कार्यालयों में ई-ऑफिस को अपनाने पर विशेष बल दिया। महाप्रबंधक महोदय द्वारा निम्न सुझाव/निर्देश दिए गए :-

1.    सभी पुस्तकालयों में उपलब्ध हिन्दी पुस्तकों की सूची राजभाषा के वेबसाइट पर डाली जाए।

2.    प्रकाशकों से ई-पुस्तकों के बारे में जानकारी ली जाए। यदि ई-पुस्तकें उपलब्ध होती हैं तो इन्हें भी पुस्तकालयों में रखा जाए।

3.    पुस्तकालयों में हर सप्ताह कितनी पुस्तकें एवं पत्रिकाएं जारी होती हैं, इसका विवरण रखा जाए।

4.    अधिकारी क्लब में उपलब्ध हिन्दी पुस्तकालय का कार्य देखने के लिए एक अंशकालिक पुस्तकाध्यक्ष बनाया जाए।

5.    राकास की अगली बैठक में सभी विभाग हिन्दी में 05 मिनट की एक प्रस्तुति देंगे।

 

इसके बाद राजभाषा अधिकारी द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के उपरांत बैठक सम्पन्न हुई।

 



Source : Welcome to CLW Official Website ! CMS Team Last Reviewed on: 08-08-2020  

  Site Map | Contact Us | RTI | Disclaimer | Terms & Conditions | Privacy Policy Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2016  All Rights Reserved.

This is the Portal of Indian Railways, developed with an objective to enable a single window access to information and services being provided by the various Indian Railways entities. The content in this Portal is the result of a collaborative effort of various Indian Railways Entities and Departments Maintained by CRIS, Ministry of Railways, Government of India.